वीडियो बार

Loading...

मंगलवार, 7 फ़रवरी 2012

उसको क्यों रोने दूं


फागुन आया, फगुन आया, 
दिल हो गया है बाग-बाग।
बसंती हवा के चलते ही, 
डर से जाड़ा गया है भाग।
दिलजले, मनचले ही नहीं, 
ठरकी बूड्ढे हो गए जवान।
काम पिपासा के तरकश पर, 
चढ़ा दिया आवेग कमान।
तरुण कामिनी के उरोज पर, 
झंकृत होता यौवन का तार।
एक कोने में दुबक विरहधर, 
रो रहा देखो जार-बेजार।
रमणी सजकर रनिवास में, 
करती रहती उसका इंतजार।
सांझ पहर बल खाती युवती, 
चौकड़ी मारती खेत-बधार।
मंद-मंद बहता समीर जब, 
उस यौवन से टकराता है।
पलभर के उसके छुअन से, 
मादकता से भर जाता है।
लपक-झपटकर पीला फूल, 
झट चोटी से सट जाता है।
कभी कटि, कभी नंद प्रदेश में, 
इठलाता, इतराता है।
मदमस्त, पर पस्त युवती, 
हाथों से उसे सहलाती है।
दबकर यौवन के भार तले, 
ऐसे मन को बहलाती है।
दूर झाड़ी में बैठा ठरकी, 
देख उसे मचल जाता है।
तजुर्बे का हवाला देकर, 
उस युवती को फुसलाता है।
अनचाहा, अनजाना देखकर, 
कामिनी ठिठक जाती है।
जोबन रसपान कराने में वह, 
शरमाती, सकुचाती है।
बड्ढे ठरकी से अच्छा, 
कोने में दुबका विरहधर है।
पहर दो पहर ही नहीं, 
वह प्रेम करता आठों पहर है।
अरुण, तरुण, कोमल, कपोल, 
इसको क्यों छूने दूं।
जिसका हक बनता है इस पर, 
उसको क्यों रोने दूं।
यही सोचकर चली वह युवती, 
अपने प्रियतम को मनाने।
पूरी राह इस ठरकी बुड्ढे को, 
लगी मूर्ख बनाने।
घर की देहरी आते बोली, 
जाती हूं अब मैं चाचा।
नहीं तो गाल पर तेरे, 
जड़ देती हूं जोरदार तमाचा।
-विश्वत सेन
फरवरी आठ, 2012

बूढ़ा बाप चिचियाता है


क्या रचिएगा, क्या बसिएगा,
रचने-बसने का नहीं है मौका।
अपने-अपनों को बांटते हैं सब,
अपने ही अपनों को देते धोखा।
माता पर है पिता का शासन,
या फिर पिता हो गए लाचार।
घर में उनकी नहीं सुनता कोई,
सब पर चढ़ गया लवेरिया बुखार।
लव के चक्कर में बेटों का,
नहीं खुलता कभी उनका लब।
माता का बेलन दिखते ही,
तितर-बितर हो जाते हैं सब।
रिलेशनशिप की आड़ में,
माता का चलता है पूरा शासन।
बिना पैसे के बाप को,
दुकानदार भी नहीं देता राशन। 
बूढ़ा बाप किधर जाए,
चुपचाप बैठकर चिचियाता है।
वैसे ही जैसे खटारा स्कूटर,
किक मारते ही किकियाता है।
जब तक कंधों में बचा था जोर,
नहीं मचाता था घर में कोई शोर।
कमर की हड्डी को मुड़ते ही,
आने लगा अब विपत घनघोर।
माता जी के घनचक्कर में,
बहुओं ने मुंह लिया है मोड़।
बिलबिलाते, छटपटाते बाप को,
बेटों ने भी अब दिया है छोड़।
आमद जब तक होती रहती,
नहीं लगाया कभी संदूक में ताला।
पेंशन देरी से मिलने पर,
छिन जाता है मुंह का निवाला।
रचती-बसती इस दुनिया में,
कितनों को ही उसने बसाया।
उसकी दुखती रगों पर देखो,
पत्नी ने ही दो धौल जमाया।
बिगड़ते-बिखरते इन रिश्तों पर,
बस एक ही रट वह लगाता है।
क्या रचना है, क्या बसना है,
सब रचा-बसा मिट जाता है।
क्या बनाइएगा, क्या बिगाडि़एगा,
सबकुछ मन का एक धोखा है।
क्या रचिएगा, क्या बसिएगा,
रचने-बसने का नहीं अब मौका है।

-विश्वत सेन
फरवरी आठ, 2012